मास गेनर या वेट गेनर पाउडर के नुकसान | Mass/Weight Gainer Side Effects in Hindi

क्या आप वेट गेनर पाउडर के नुकसान से अवगत है ? हालांकि मास गेनर या वेट गेनर एक ऐसा सप्लीमेंट है, जिसके बारें में जिम जाने वाले हर एक महिला या पुरूष को जानकारी होती हैं। वैसे थोड़ी ही सही, लेकिन जानकारी तो होती है और इसका नाम तो जरूर सुना होता हैं।

Mass Gainer Side Effects in Hindi

हालांकि, सप्लीमेंट्स का इस्तेमाल करना हमारी बॉडी के लिए काफी फायदेमंद होता हैं। शरीर मे पोषक तत्वों की कमी को पूरा करने के लिए सप्लीमेंट्स का उपयोग करना सबसे अच्छा माना जाता हैं।

सप्लीमेंट्स का उपयोग करके आप शारीरिक शक्ति, परफॉर्मेंस, स्टैमिना, मसल्स ग्रोथ को आसानी से बढ़ा सकते हैं। यहाँ पर ध्यान रखने वाली बात यह है कि, आपको सप्लीमेंट का इस्तेमाल आवश्यकता के अनुसार और सीमित मात्रा में करना चाहिए।

आवश्यकता से ज्यादा, अधिक मात्रा में और गलत ढंग से किसी भी प्रकार के सप्लीमेंट का इस्तेमाल करना स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक हो सकता हैं।

ठीक उसी प्रकार देखा गया है, दुबले-पतले लोग भी जल्दी से मोटा होने के लिए मास गेनर का अधिक मात्रा में सेवन करते हैं। जिसके कारण उन्हें कुछ समय सेवन करने के पश्चात ही इसके साइड इफेक्ट्स देखने को मिलते हैं।

बहुत से लोग एलर्जिक प्रवृत्ति के होते है, उन्हें भी इसके इस्तेमाल से साइड इफेक्ट्स होने के चान्सेस अधिक होते हैं। ठीक उसी प्रकार किसी बीमारी या रोग से पीड़ित होने पर मास गेनर जैसे सप्लीमेंट का सेवन करना शारीरिक और मानसिक समस्याओं को पैदा कर सकता हैं।

तो चलिए हम जानते है, मास गेनर या वेट गेनर पाउडर के साइड इफेक्ट्स क्या हैं।

मास गेनर या वेट गेनर पाउडर लेने के नुकसान | Mass Gainer Side Effects in Hindi

मास गेनर/वेट गेनर  एक प्रकार से वजन बढ़ाने वाला सप्लीमेंट होता है, जिसमें कार्बोहाइड्रेट की मात्रा उच्च होती हैं। वहीं, इस मास गेनर में प्रोटीन बहुत कम मात्रा में मौजूद होता हैं।

देखा जाए तो इसके इस्तेमाल से आप वजन तो बढ़ा सकते है, लेकिन एक अच्छी फिजिक नहीं बना सकते हैं। वहीं, इसका अधिक मात्रा में सेवन करना स्वास्थ्य समस्याओं को पैदा कर सकता हैं।

वेट गेनर पाउडर के नुकसान या साइड इफेक्ट्स कई सारे हो सकते है, जिसके बारें में हम विस्तार से जानते हैं।

(1) भूख कम लगना (Appetite Problem)

मास गेनर बहुत ही हाई कैलोरी सप्लीमेंट होते है, जिसकी सर्विंग साइज भी ज्यादा होती हैं। इसमें कार्बोहाइड्रेट की मात्रा भी बहुत अधिक होती हैं।

अधिकांश मास गेनर की एक सर्विंग में 1000 से 1200 कैलोरी मौजूद होती है, जो पेट मे जाने के बाद पचने में अधिक समय लेती है और बॉडी में इसका Absorption भी धीरे होता हैं। इसीलिए इसका सेवन करने पर भूख कम लगती हैं।

You can also read this :

Whey Protein लेने के फायदे क्या है ? 

Creatine लेने से क्या होता है ?

BCAA लेना क्यों फायदेमंद है ?

(2) ब्लड शुगर लेवल का अनियंत्रित होना (Uncontrolled Sugar)

मास गेनर में कार्ब्स की मात्रा तो अधिक होती ही है, साथ में इसमें शुगर की मात्रा भी बहुत अधिक होती हैं। इसके नियमित सेवन करने से आपका ब्लड शुगर लेवल अनियंत्रित हो सकता हैं।

इसके अलावा अधिक मात्रा में सेवन करने पर आपकी बॉडी में शुगर बढ़ सकती है और डायबिटीज का खतरा उत्पन्न हो सकता हैं। 

(3) इंसुलिन लेवल का बढ़ना (Insulin Spikes)

मास गेनर या वेट गेनर जैसे फूड सप्लीमेंट्स में शुगर की मात्रा काफी ज्यादा होती है, जो आपकी बॉडी में इंसुलिन को स्पाइक करने में प्रेरित करती हैं। जिस कारण आपकी बॉडी में इंसुलिन का स्तर बढ़ सकता हैं।

(4) ब्लोटिंग होना (Bloating)

जिन लोगों को पेट संबंधी विकार होते रहते है, उन लोगों को मास गेनर के सेवन से पेट दर्द और ब्लोटिंग का सामना करना पड़ सकता हैं।

एक समय पर अत्यधिक कैलोरी के सेवन करने से भी यह समस्या उत्पन्न हो सकती हैं।

(5) थकावट होना (Fatigue)

अधिक कैलोरी इन्टेक होने के कारण आपकी बॉडी सुस्त पड़ने लगती है, जो थकावट को पैदा करती हैं। जैसे अधिक खाना खाने के बाद नींद आने लगती हैं। ठीक उसीप्रकार अधिक कैलोरी वाले मास गेनर भी थकावट और नींद आने का कारण बनते हैं।

(6) बॉडी में अतिरिक्त फैट बढ़ना (Excessive Fat)

मास गेनर के सेवन करने एक ही समय पर बहुत ज्यादा कैलोरी बॉडी में चली जाती हैं। इस कैलोरी को बॉडी पूरी तरह से उपयोग में नही ला पाती हैं।

और कैलोरी का एक बहुत बड़ा भाग खर्च नही हो पाता है, जो आपकी बॉडी के मध्य भाग में फैट के रूप में जमा होने लगती है और बेली फैट का कारण बनती हैं।

(7) वाटर रिटेंशन क्षमता बढ़ना (Water Retention)

मास गेनर या वेट गेनर पाउडर में कुछ ऐसे तत्व मौजूद होते है, जो आपके बॉडी में वाटर रिटेंशन को बढ़ाते है और शरीर के अंगों में पानी के जमाव को बढ़ाते हैं।

इसके अलावा मास गेनर में मौजूद अत्यधिक शुगर भी वाटर रिटेंशन को बढ़ाती है और मसल टिश्यू में पानी जमने लगता हैं। जिसके कारण भी बॉडी फूलने लग जाती हैं।

(8) मेटाबोलिजम कम होना (Slower Metabolism)

आवश्यकता से अधिक ऊर्जा और कैलोरी का स्तर चपापचयी क्रियाओं को प्रभावित करता हैं। कैलोरी का पूर्ण रूप से खर्च न होना भी मेटाबोलिजम को धीमा करता हैं।

(9) पाचन क्रिया धीरे होना (Slower Digestion)

मास गेनर में मौजूद कार्ब्स, प्रोटीन, फैट, विटामिन और मिनरल्स का स्त्रोत नेचुरल फूड ही होते हैं। इन फूड्स को प्रोसेस करके मास गेनर बनाया जाता हैं।

एक ही समय पर अधिक कैलोरी का इन्टेक करना आपके पाचन क्रिया को धीमा बनाता हैं।

(10) स्किन संबंधी समस्याएं (Skin Problems)

वैसे तो मास गेनर या वेट गेनर पाउडर के साइड इफेक्ट्स बहुत से है लेकिन, स्किन संबंधी समस्याओं का कोई खास प्रमाण नहीं हैं।

विश्लेषण के आधार पर अधिक मात्रा में कार्बोहाइड्रेट का सेवन करना बॉडी में शर्करा को बढ़ाता है, जो स्किन संबंधी समस्याओं का कारण बन सकता हैं।

(11) पैसों की बर्बादी

मास गेनर या वेट गेनर पाउडर इस्तेमाल करने का यह सबसे बड़ा नुकसान हैं। इसलिए क्योंकि, मास गेनर में केवल कार्ब्स भरे होते हैं। और आप जानते ही है, कार्बोहाइड्रेट तो बहुत सस्ते होते है और आसानी से नेचुरल फूड के माध्यम से मिल जाते हैं।

इसलिए जब भी आप मास गेनर खरीदते है, तब आप सिर्फ कार्बोहाइड्रेट के लिए पैसे खर्च करते हैं। हालांकि, मास गेनर वजन बढ़ाने के लिए ही बनाये जाते है, इसलिए इसमें कार्बोहाइड्रेट की मात्रा अधिक रखी जाती हैं।

Final Words : मास गेनर को लेकर बहुत सी अवधारणाए है, जिसमें से बहुत सी बातें निराधार हैं। इसके इस्तेमाल से आपको लाभ भी मिलते है और गलत ढंग या अधिक इस्तेमाल करने पर आपको नुकसान भी झेलना पड़ सकता हैं।

यदि आपके पास पैसा है, आपको भूख भी अधिक लगती है, पाचन क्रिया मजबूत है, आपको किसी प्रकार की एलर्जी नहीं है और आप बहुत ही दुबले-पतले है, तो ऐसे में आप 40 से 45 दिनों तक मास गेनर का इस्तेमाल (ब्रांड रिकमेन्डेशन के अनुसार) करके देख सकते हैं। निश्चित ही यह आपको वजन बढ़ाने में हेल्प करेगा। ध्यान रहें, आपको इसका अधिक मात्रा और लम्बे समय तक इस्तेमाल बिल्कुल भी नहीं करना हैं।

उम्मीद है, मास/वेट गेनर पाउडर के नुकसान (Mass Gainer Side Effects in Hindi) यह आर्टिकल आपके लिए काफी महत्वपूर्ण रहा होगा। यदि इस आर्टिकल में दी गयी जानकारी आपको पसंद आयी है, तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर Share करें।

Other Articles : 

Share with your friends...

Leave a Reply