Fitness

प्री वर्कआउट क्या होता है ? | Pre Workout Meaning in Hindi

Pre Workout Meaning in Hindi : यदि आप जिम जाते है तो आपने बहुत से लोगों के मुंह से प्री वर्कआउट शब्द तो सुना ही होगा। उनमें से कुछ लोग प्री वर्कआउट डाइट की बात करते है, तो कुछ लोग प्री वर्कआउट सप्लीमेंट के बारें में बात करते हैं।

Pre workout in Hindi

यहां डाइट और सप्लीमेंट की बात आने पर आपके लिए थोड़ा कंफ्यूजन पैदा हो जाता है और आप सोच में पड़ जाते है कि, आखिर यह प्री वर्कआउट होता क्या हैं। जिम जाने वाले या होम वर्कआउट करने वाले अधिकांश लोगों को प्री वर्कआउट के बारें में पर्याप्त जानकारी नहीं होती हैं।

हालांकि प्री वर्कआउट सप्लीमेंट का इस्तेमाल बॉडीबिल्डर्स, वेटलिफ्टर्स, एथलीट आदि लोगों द्वारा वर्कआउट को प्रभावी बनाने के लिए किया जाता हैं।

Pre Workout में आप सामान्य डाइट भी ले सकते है और सप्लीमेंट्स भी ले सकते हैं।

तो चलिए जानते है कि, प्री वर्कआउट क्या होता है (Pre Workout Meaning in Hindi) और इसकी जरूरत, उपयोग, फायदे-नुकसान आदि क्या हैं।

प्री वर्कआउट का मतलब क्या होता है, यह सवाल तो बहुत से लोग पूछते हैं। तो Pre Workout का हिंदी में अर्थ – ‘वर्कआउट के पहले’ होता हैं। वर्कआउट या एक्सरसाइज करने से पहले (लगभग एक घंटे के भीतर) की जाने वाली सभी गतिविधियां प्री वर्कआउट में आती हैं।

प्री वर्कआउट सप्लीमेंट क्या होता है ? | Pre or Before Workout Meaning in Hindi

ऐसे सप्लीमेंट्स जो वर्कआउट या एक्सरसाइज करने से पहले इस्तेमाल किये जाते है, उन्हें Pre Workout सप्लीमेंट कहा जाता हैं।

प्री वर्कआउट सप्लीमेंट का मतलब हिंदी में – वर्कआउट से पहले लिया जाने वाला पूरक आहार होता हैं। यह एक विशेष प्रकार का डाइटरी सप्लीमेंट होता है, जो एक्सरसाइज शुरू करने से पहले लिया जाता हैं।

इसे अलग-अलग सप्लीमेंट ब्रांड्स द्वारा बनाया जाता है जिसमें कैफीन, क्रिएटिन, एमिनो एसिड्स, विटामिन आदि तत्व सामान्य रूप से मौजूद होते हैं।

यह परफॉर्मेंस बढ़ाने वाले सप्लीमेंट होते है और पाउडर, कैप्सूल्स और पिल्स सहित विभिन्न रूपों में उपलब्ध होते है और आसानी से उपयोग किये जा सकते हैं।

You can also read this :

क्रिएटिन लेने से क्या होता हैं ?

एमिनो एसिड क्या होते हैं ?

व्हे प्रोटीन लेना क्यों फायदेमंद होता हैं ?

प्री वर्कआउट सप्लीमेंट के उपयोग | Pre Workout Uses in Hindi

बहुत से लोग प्री वर्कआउट सप्लीमेंट्स के सही उपयोग के बारें में अवगत नहीं होते हैं। हालांकि, यह एक सामान्य प्रोडक्ट है जिसे एथलीट, वेटलिफ्टर्स, जिम जाने वाले लोग, बॉडीबिल्डर्स द्वारा उपयोग किया जाता हैं। Pre Workout के उपयोग जैसे –

  • वर्कआउट के लिए बॉडी को पूर्ण रूप से तैयार करने के लिए इसका उपयोग किया जाता हैं।
  • इसका उपयोग वर्कआउट के दौरान फोकस बढ़ाने और बॉडी को एक्टिव करने के लिए किया जाता हैं।
  • एक्सरसाइज के दौरान ऊर्जा का स्तर (Energy Level) बनाए रखने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता हैं।
  • कसरत के दौरान धीरज (Endurance) और ध्यान बढ़ाने के लिए प्री वर्कआउट का उपयोग किया जाता हैं।
  • बॉडी को वर्कआउट के प्रति उत्तेजित करने के लिए इसका उपयोग किया जाता हैं।

प्री वर्कआउट सप्लीमेंट के फायदे | Pre Workout Benefits in Hindi

सामान्यतः वर्कआउट के 15 से 20 मिनट पहले इसका इस्तेमाल करना बहुत ही फायदेमंद होता हैं। इसे लेने के बाद, सबसे पहले यह आपके बॉडी को पूरी तरह वर्कआउट के लिए तैयार करता है और रक्त प्रवाह को तेज कर देता हैं।

Pre Workout का काम वर्कआउट को बेहतर से बेहतर बनाना होता है, जिसके लिए यह बॉडी में एनर्जी सप्लाई को बढ़ाता है और वर्कआउट को प्रभावी बनाने में मदद करता हैं।

इसके अलावा भी Pre Workout लेने के फायदे बहुत हैं। जैसे –

(1) शारीरिक प्रदर्शन (Physical Performance) में वृद्धि करते है और बॉडी की सक्रियता (Alertness) को बढ़ाते हैं।

(2) वर्कआउट के समय बॉडी को थकने नहीं देते हैं और सहनशीलता को बढ़ाते हैं।

(3) मसल्स में मौजूद प्रोटीन को टूटने (Protein Breakdown) से रोकते हैं।

(4) बॉडी में एनर्जी लेवल को कम नहीं होने देते है और मसल्स को जल्दी थकने नहीं देते हैं।

(5) मसल्स की स्ट्रेंथ को बढ़ाते है, जिसके फलस्वरूप आप अधिक वजन उठा सकते हैं।

यह भी जानिए – L-Arginine लेने के फायदे

(6) प्रोटीन संश्लेषण (Protein Synthesis) को बढ़ावा देते है और मेटाबोलिजम को बूस्ट करते हैं।

(7) प्री वर्कआउट सप्लीमेंट आपके मसल मास को बढ़ाते है और फैट मास को कम करते हैं।

(8) मसल्स की रिकवरी और पावर बढ़ाने में मदद करते हैं।

(9) प्री वर्कआउट से आपकी दक्षता और स्टेमिना बढ़ता हैं।

(10) मसल्स में होने वाले दर्द को कम करने में मदद करते हैं।

इसप्रकार यदि आप Pre Workout सप्लीमेंट्स का इस्तेमाल एक सीमित मात्रा में करते है तो यह वर्कआउट को अधिक प्रभावी और बेहतर बनाते हैं।

इसके साथ ही यह आपके फिटनेस और बॉडी फिजिक को बेहतरीन बनाने में मदद करते हैं। अधिक मात्रा में इन सप्लीमेंट्स का इस्तेमाल करना नुकसानदेह हो सकता हैं।

प्री वर्कआउट लेने के नुकसान | Pre Workout Side Effects in Hindi

यह सप्लीमेंट बहुत जल्दी प्रतिक्रिया करते है और बॉडी में रक्त प्रवाह को तेज कर देते हैं। इसमें कुछ ऐसे तत्व भी होते है जो आपकी पाचन क्रिया को प्रभावित कर सकते हैं।

अधिक मात्रा और गलत ढंग से इसका इस्तेमाल करने से इसके नुकसान हो सकते हैं। कुछ विश्लेषण और बहुत से लोगों द्वारा उपयोग किए जाने पर प्री वर्कआउट के साइड इफेक्ट्स देखने को मिले हैं।

प्री वर्कआउट के साइड इफेक्ट्स जैसे –

  • निर्जलीकरण (Dehydration)
  • दिल की धड़कन बहुत तेज हो जाना (Tachycardia)
  • रक्तचाप में वृद्धि
  • दिल के दौरें पड़ना
  • नींद न आने की बीमारी (Insomnia)
  • लत पड़ जना
  • अधिवृक्क की थकान
  • अवांछित उत्तेजना होना

प्री वर्कआउट कब लेना चाहिए ? | Best Time To Take Pre Workout Supplement in Hindi 

हालाँकि, प्री वर्कआउट सप्लीमेंट को एक्सरसाइज या वर्कआउट शुरू करने से पहले ही लिया जाता है, लेकिन इसका भी एक उचित समय होता हैं। आप इसे वर्कआउट के पहले कभी भी नहीं ले सकते हैं। 

प्री वर्कआउट लेने का सबसे सही टाइम – वर्कआउट या एक्सरसाइज शुरू करने से 15-20 मिनट पहले होता हैं।

यदि इस समय को ध्यान में रखते हुए आप प्री वर्कआउट सप्लीमेंट का सेवन करते है, तो यह आपके लिए सबसे ज्यादा उपयोगी सिद्ध होता है और प्रभावी वर्कआउट पूरा करने में यह आपकी मदद करता हैं।

प्री वर्कआउट कैसे लेना चाहिए ? | How To Take Pre Workout Supplement in Hindi

सामान्यतः प्री वर्कआउट सप्लीमेंट पानी में आसानी से अच्छी तरह घुल जाते है और इन्हे पानी के साथ लेना ही सबसे बेहतर माना जाता हैं।

अधिकांश प्री वर्कआउट ब्रांड्स तरह-तरह के फ्लेवर में आते है, जिसकारण इसे पानी में लेने से इसका स्वाद भी बेहतर आता हैं।

इस्तेमाल करने के लिए, एक्सरसाइज शुरू करने से पहले आपको एक शेकर में 100 से 150 ml पानी लेना हैं। उसमें एक सर्विंग (5 ग्राम) प्री वर्कआउट पाउडर को डालकर अच्छी तरह मिक्स कर लेना है और अच्छे से शेक करने के बाद धीरे-धीरे इसे पी लेना हैं।

Final Words : प्री वर्कआउट सप्लीमेंट्स का इस्तेमाल किसी अच्छे फिटनेस ट्रेनर या डॉक्टर्स की सलाह लेकर ही करना चाहिए। हालांकि यह आपके परफॉरमेंस, सहनशीलता और मसल ग्रोथ को बढ़ाने में मदद करते है, परन्तु इसका गलत ढंग से इस्तेमाल करना आपकी बॉडी के लिए हानिकारक हो सकता हैं।

आवश्यकता के अनुसार और फिटनेस ट्रेनर की सलाह पर इसका उपयोग करना आपके लिए बहुत ही फायदेमंद हो सकता हैं।

Recommended Articles :

Share with your friends...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button