Fitness

इंटरमिटेंट फास्टिंग क्या है – इसके फायदे और नुकसान | Intermittent Fasting Meaning in Hindi

आजकल भारत ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया में काफी सारें लोग (बच्चे, महिला एवं पुरुष) बढ़ते वजन या अतिरिक्त फैट की समस्या से परेशान हैं। इससे छुटकारा पाने के लिए लोग तरह-तरह के उपाय अपना रहे है, क्योंकि यह अतिरिक्त फैट की समस्या कई गंभीर बिमारियों का कारण बन सकती हैं।
Intermittent fasting in Hindi
आप में से कई लोग वजन कम (Weight Loss) करने के लिए भी फास्टिंग करते है, लेकिन वजन कम करने के चक्कर में फास्टिंग या उपवास करने से आपके शरीर में कमजोरी होने लगती हैं। इस प्रकार की समस्या को देखते हुए आजकल इंटरमिटेंट फास्टिंग का ट्रेन्ड काफी जोर-शोर पर हैं।

Intermittent Fasting, यह फास्टिंग करने का ऐसा तरीका है, जिसकी मदद से आप बिना किसी कमजोरी को महसूस किये अपना वजन आसानी से कम कर सकते हैं।

इंटरमिटेंट फास्टिंग Weight Loss करने का बहुत ही कारगर तरीका है और इसे वेट मैनेजमेंट की सबसे बढ़िया तकनीक माना जाता हैं। अगर आप इंटरमिटेंट फास्टिंग करते है, तो वजन कम करने के साथ-साथ इसके कई सारे फायदे भी आपको देखने को मिलेंगे।

तो आइए अब शुरुआत से जानते है कि, इंटरमिटेंट फास्टिंग क्या है और इसके फायदे व नुकसान क्या हैं।

इंटरमिटेंट फास्टिंग क्या है ? | Intermittent Fasting Means in Hindi

यह वजन कम करने का ऐसा तरीका है, जिसमें एक विशेष प्रकार का Eating Pattern होता हैं।

यह कोई खास डाइट नही होती और इसमें क्या खाना चाहिए यह नही बताया जाता है, बल्कि कब क्या खायें और कैसे खायें यह इसमें विशेष रूप से बताया जाता हैं।

इंटरमिटेंट फास्टिंग के दौरान आपको व्रत या उपवास में रहने की जरूरत नही होती है और ना ही आपको उपवास वाले फूड खाने होते हैं।

आप इंटरमिटेंट फास्टिंग में नॉर्मल खाना खा सकते है, हालांकि इस तकनीक के दौरान आपको लगभग 16 से 20 घंटो तक भूखा (Fast) रहना होता हैं। और आपको 4 से 8 घंटो का समय मिलता है, जिसमें आप अपना न्यूट्रिशन (खाना) ले सकते हैं।

Intermittent Fasting का हिन्दी में अर्थ ‘रुक-रुक कर उपवास’ होता हैं। इसे Intermittent Energy Restriction भी कहते हैं। यह कई प्रकार की हो सकती है और इसके कई सारे फायदे भी हैं।

इंटरमिटेंट फास्टिंग कैसे करे ? | How To Do Intermittent Fasting in Hindi

यहाँ इंटरमिटेंट फास्टिंग क्या है इसके बारे में आपने जान लिया। अब जानते है, Intermittent Fasting कैसे करे, इसके तरीके क्या है, यह आप में से बहुत सारे लोगों को पता नही होता हैं। इसके कुछ प्रकार नीचे बताएं गये है, जिसको फॉलो करके आप अपना Belly Fat Loss और Weight Loss आसानी से कर सकते हैं।

इस तरह की फास्टिंग को करने के लिए आपको एक शेड्यूल बनाना पड़ता हैं। उस शेड्यूल में आपको फूड खाने का समय और खाली पेट बिना कुछ खाये रहने का एक विशेष समय निर्धारित करना होता हैं।

 

इंटरमिटेंट फास्टिंग के प्रकार | Types Of Intermittent Fasting in Hindi

हालांकि, इंटरमिटेंट फास्टिंग करने के बारें में हर कोई नहीं सोचता है, बल्कि जिन्हे वजन कम करना होता है वह लोग इसे करना चाहते हैं। यहां पर इंटरमिटेंट फास्टिंग के प्रकार बताये गए है, जिसकी मदद से आप इस तकनीक को फॉलो कर सकते है और इंटरमिटेंट फास्टिंग कर सकते हैं। 

  1. 16/8 Method
  2. 5/2 Method
  3. Stop Eating Method
  4. Warrior Method
  5. Alternate Day Fasting Method

16/8 डाइट क्या है ? | 16/8 Diet in Hindi

अच्छी फिटनेस पाने के लिए और Weight Loss करने के लिए 16/8 डाइट को फॉलो करना बेहद उपयोगी होता हैं। इंटरमिटेंट फास्टिंग की इस तकनीक में आपको दिन के 24 घंटो में से 16 घंटे कुछ भी नही खाना होता हैं।

उसके बाद बचे हुए 8 घंटो के अंदर ही आपको अपना भोजन करना होता हैं। इसका सीधा मतलब यह है कि आपको 16 घंटे फास्टिंग करनी है और बचे हुए 8 घंटे के अंदर आपको अपना ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर कर लेना होता हैं।

उदाहरण के लिए – अगर आपने रात को 8 बजे तक डिनर कर लिया है, तो अगले दिन आपको दोपहर 12 बजे तक कुछ भी नही खाना हैं।

दोपहर 12 बजे के बाद आप अपना ब्रेकफास्ट और लंच कर सकते हैं। इस फास्टिंग के 16 घंटो में आप जितना चाहें उतना पानी पी सकते है, परन्तु आप कुछ खा नही सकते हैं।

5/2 डाइट क्या है ? | 5/2 Diet in Hindi

5/2 डाइट यह Intermittent Fasting का एक अच्छा तरीका है, जिसे फॉलो करके आप अपना वजन आसानी से कम कर सकते हैं।

इंटरमिटेंट फास्टिंग की इस तकनीक में आपको हफ्ते के 5 दिन Caloric Maintenance में रहना होता है, इसका मतलब यह कि आप अपना नॉर्मल खाना खा सकते हैं।

इसके बाद अगले 2 दिनों में आपको सिर्फ और सिर्फ 500 से 600 कैलोरी खानी होती है, इसका सीधा मतलब आपको 2 दिन फास्टिंग ही करनी होती हैं।

इस तकनीक में आपको हफ्ते के 5 दिन खाना होता है और 2 दिन फास्टिंग करनी होती हैं। यह 5/2 डाइट आपके Weight loss करने में बहुत ज्यादा मददगार हैं।

खाना बन्द करो विधि क्या है ? | Stop Eating Food Method in Hindi

Intermittent fasting की इस तकनीक में आपको हफ्ते के 1 या 2 दिन पूरे 24 घंटे तक फास्टिंग में रहना होता हैं।

बाकि बचे हुए 5 दिन आप अपना नॉर्मल डाइट फॉलो कर सकते हैं। Stop Eating Food विधि से आप आसानी से वजन कम कर सकते हैं।

हालांकि फास्टिंग की यह तकनीक फॉलो करना हर किसी के लिये आसान काम नही है क्योंकि इसमें पूरे 24 घंटो तक फास्टिंग करनी होती है जिससे कमजोरी महसूस हो सकती हैं। परंतु आप इसे फॉलो करते है तो निश्चित ही आप आसानी से Weight Loss कर सकते हैं।

वारियर डाइट क्या है ? | Warrior Diet in Hindi

वारियर डाइट यह Intermittent Fasting की ऐसी तकनीक है, जिसमें आपको दिन के 24 घंटो में से 20 घंटो तक कुछ भी नही खाना होता हैं।

इसके बाद बाकि बचे 4 घंटो में आप अपना मनपसंद खाना खा सकते है और साथ ही आप Overeating भी कर सकते हैं।

Warrior Diet में आपको सलाद और ज्यादा से ज्यादा प्रोटीनयुक्त फूड खाने को कहा जाता हैं। Warrior डाइट तकनीक Weight Loss करने में बहुत ज्यादा मदद करती हैं।

आल्टरनेट डे फास्टिंग क्या है ? | ADF in Hindi

Intermittent Fasting की यह तकनीक बहुत ही कठिन मानी जाती हैं। आल्टरनेट डे फास्टिंग को ‘Fast and Feast’ डाइट भी कहते हैं।

ADF में आपको पूरे 36 घंटो तक Fasting करनी होती हैं और अगले 12 घंटो के अंदर आप कुछ भी खा सकते हैं।

यह Cycle पूरे 48 घंटो की होती हैं। ADF तकनीक को फॉलो करना बिल्कुल भी आसान नही है परंतु आप इसे फॉलो करते है तो बेशक आपका Weight Loss बहुत कम समय में हो जाएगा।

ADF तकनीक में बहुत से लोगों को लगातार 36 घंटो तक फास्टिंग नही कर पाने की वजह से कुछ सलाह भी दी जाती है जिसमे उन्हें कुछ ड्रिंक्स और जूस आदि पीने को कहा जाता हैं।

इंटरमिटेंट फास्टिंग से वजन कम कैसे होता हैं ?

Intermittent Fasting में आप Fasting (भूखा रहना) और Eating (खाना) के समय के बीच उतार-चढ़ाव करते हैं। इस फास्टिंग की अलग-अलग तकनीक में आप एक अलग तरीके से खाना खाते हैं।

जैसे – 16/8 Method, 5/2 Method, Stop Eating Food Method, Warrior Method और ADF तकनीको में आप किसी में 16 घंटे उपवास करते है, किसी में 20 घंटे तो किसी में 1 या 2 दिन उपवास करते हैं।

आपको बता दें कि Fasting के दौरान आपका शरीर, जमा ग्लूकोज (Stored Glucose) का उपयोग करता हैं। और साथ में Energy प्राप्त करने के लिए जमा फैट (Stored Fat) को इस्तेमाल करता है और फैट को तोड़ता हैं।

जब आप खाना खाते है तब आपका शरीर खाने से एनर्जी लेता हैं। और जब आपका शरीर फास्टिंग में होता हैं उस समय ग्लूकोज से एनर्जी लेता है, जिससे धीरे-धीरे ग्लूकोज कम हो जाता हैं।

इसके बाद अधिक समय तक फास्टिंग करने से शरीर में मौजूद फैट, एनर्जी प्राप्त करने के लिए उपयोग किया जाता है जिससे फैट टूटना शरू हो जाता हैं। और इन सभी के प्रभाव से वजन घटने लगता हैं। (5 बेस्ट फैट लॉस फ्रूट्स वजन कम करने वाले)

इंटरमिटेंट फास्टिंग के फायदे  | Intermittent Fasting Benefits in Hindi

कुछ लोगो द्वारा Intermittent fasting फॉलो करने के बाद रीसर्च और स्टडी से पता चला है कि उन्हें इस तकनीक से बहुत सारे फायदे हुए हैं। आप भी इसे फॉलो करके इंटरमिटेंट फास्टिंग के फायदे ले सकते हैं।

  1. इंटरमिटेंट फास्टिंग फैट लॉस और वेट लॉस दोनों में मदद करती हैं।
  2. यह कोलेस्ट्रॉल पर नियंत्रण रखने में सहायक हैं।
  3. इससे शरीर में इन्सुलिन लेवल कम होता है जिससे फैट लॉस में मदद मिलती हैं।
  4. Intermittent Fasting में कम कैलोरी खायी जाती है जिससे मेटाबोलिजम बूस्ट होता हैं।
  5. इस तरह की फास्टिंग से ब्लड शुगर लेवल कम होता हैं।
  6. इंटरमिटेंट फास्टिंग से हृदय सम्बंधित बीमारियों पर नियंत्रण किया जा सकता हैं।
  7. यह शरीर में ब्लड प्रेशर नियंत्रित करने में सहायक होती हैं।
  8. Intermittent Fasting से दिमाग की शक्ति बढ़ती है और साथ ही न्यूरोन्स की ग्रोथ होती हैं।
  9. इससे शरीर के ग्रोथ हॉर्मोन्स में बढ़ोत्तरी होती हैं।
  10. इंटरमिटेंट फास्टिंग से अल्जाइमर, हार्ट अटैक और सेल्युलर डैमेज जैसे रोग नही होते हैं।
  11. बॉडी डीटॉक्स करने में मदद मिलती हैं। (5 बेस्ट ब्लैक कॉफ़ी फॉर वेट लॉस)

इंटरमिटेंट फास्टिंग में क्या खाना चाहिए ?

Intermittent Fasting एक ऐसी तकनीक है, जिसमें खान-पान पर किसी भी प्रकार की रोक नहीं होती हैं इसमें केवल खाने का समय और भूखा रहने का समय निर्धारित होता हैं खाने के दौरान आप सभी प्रकार की चीजें खा सकते हैं

ध्यान रहें, जब आप वजन कम करने का सोच रहे है तब आपको फैट और कार्बोहाइड्रेट वाले फूड्स का सेवन कम से कम करना चाहिए इसके अलावा आप नॉर्मल खाना जो आपके घरों में बनता है, उसे आसानी से खा सकते हैं

एक बात का ध्यान आपको और रखना है, आपको ओवरईटिंग कभी भी नहीं करनी हैं ओवरईटिंग करने से इंटरमिटेंट फास्टिंग का महत्व खतम हो जाता हैं इसप्रकार आप सीमित मात्रा में भोजन करके इंटरमिटेंट फास्टिंग का पूरा लाभ ले सकते हैं (5 बेस्ट ग्रीन टी फॉर वेट लॉस)

इंटरमिटेंट फास्टिंग से कितना वजन कम किया जा सकता हैं ?

इस तकनीक से अतिरिक्त फैट या वजन को आसानी से कम किया जा सकता हैं। यदि आप अच्छे खान-पान, अनुशासित डाइटिंग, नियमित वर्कआउट के साथ इंटरमिटेंट फास्टिंग को फॉलो करते है तो, 1 महीने के अंदर आप 3 से 4 किलोग्राम वजन कम कर सकते हैं।

वजन घटाने के लिए इंटरमिटेंट फास्टिंग एक कारगर और प्रभावी तकनीक हैं। नेशनल सेंटर फॉर बॉयोटेकनोलॉजी इनफॉरमेशन (NCBI) की वेबसाइट पर प्रकाशित एक रिसर्च एवं शोध के अनुसार, इंटरमिटेंट फास्टिंग वजन को कम करने और बेहतर फिटनेस को बनाये रखने में सबसे ज्यादा इफेक्टिव तकनीक हैं। (5 बेस्ट पीनट बटर फॉर वेट लॉस)

Conclusion – यह वजन घटाने के लिए सबसे बेस्ट तकनीक है, जिसे महिला और पुरुष दोनों ही फॉलो कर सकते हैं। कुछ रीसर्च और स्टडीज़ के अनुसार भी इसे वजन घटाने के लिए सबसे कारगर उपाय बताया गया हैं। यह कोई रॉकेट साइंस नहीं है, बल्कि इसे फॉलो करना सबसे आसान हैं।

उम्मीद है, इंटरमिटेंट फास्टिंग क्या है (Intermittent Fasting Meaning in Hindi) इस टॉपिक के बारे में पूरी जानकारी आपको मिल गयी होगी। अगर पोस्ट पसंद आयी है तो प्लीज इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ Share करें और नीचे Comment बॉक्स में बताएं कि यह पोस्ट आपको कैसी लगी।

और आपके कोई भी सवाल या सुझाव है तो नीचे Comment करके जरूर बताएं। Thank You !!!

Share with your friends...

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button