Fitness

महिलाओं का पेट कम करने के उपाय | Belly Fat Loss Tips in Hindi

महिलाओं का पेट कम करने के उपाय : क्या आप जानते है, हमारी बॉडी में सबसे ज्यादा और सबसे पहले चर्बी (फैट) जमने की शुरुआत पेट से ही होती हैं। इसके पीछे सबसे बड़ा कारण हमारें बॉडी के मध्य भाग (कोर या बेली) की एक्टविटी का धीमा होना और मिड सेक्शन का मूवमेंट न होना हैं।

Belly Fat Loss Tips Hindi

और साइंस भी यही कहता है कि पेट की चर्बी या मोटापे का सबसे पहला कारण, बेली या पेट का मूवमेंट न होना (Inactivity Of Belly) हैं।

आमतौर पर हमारें सभी मुख्य अंग (Main Body Parts) किसी न किसी काम या गतिविधियों के चलते हमेशा एक्टिव रहते है, जबकि पेट का हिस्सा बहुत कम या न के बराबर एक्टिव होता हैं।

हमारें हाथ, पैर, गर्दन आदि हमेशा कार्यरत रहते है जिसके कारण इन अंगों पर फैट आसानी से नहीं जम पाता हैं। वही पेट का हिस्सा इन अंगों की तुलना में बहुत ही कम कार्यरत होता है, जिसके कारण यहाँ पर फैट (चर्बी) जमने की शुरुआत सबसे पहले होती हैं।

दूसरा कारण हमारा खान-पान, डेली रूटीन और जीवनशैली (Lifestyle) का बेहतर ना होना हो सकता हैं। इसके अलावा भी पेट की चर्बी/वसा के कई अन्य कारण हो सकते हैं।

आमतौर पर किसी ऑफिस में काम करने वाले या बहुत कम काम करने वाले बैली फैट का शिकार सबसे पहले होते हैं। परंतु यह पहले होता था, आजकल हर तीसरा व्यक्ति (महिला/पुरुष) पेट की चर्बी, मोटापा, Belly Fat आदि की समस्या से जूझ रहा हैं।

बहुत से लोग बेली फैट को कम करने के लिए न जाने क्या-क्या करते हैं। कुछ लोग जेनेरिक दवाइयों और टेबलेट्स आदि का इस्तेमाल करते है और इसीकारण वह किसी अन्य समस्या या बीमारी का शिकार भी बन जाते हैं।

हम जानते है पेट की चर्बी चिंता का विषय जरूर हैं। हालाँकि यह कोई बीमारी नहीं है, लेकिन कुछ समय बाद यह हमें बीमारी जैसे लगने लगती हैं। यह केवल दिखने में खराब नहीं लगती, बल्कि पेट की चर्बी कई बीमारियों का कारण भी बन सकती हैं।

इसीलिए आज ASHFITX के इस आर्टिकल के जरिए हम जानेंगे कि, महिलाओं का पेट कम करने के उपाय या महिलाओं का मोटापा कम करने के उपाय क्या हैं।

पेट की चर्बी क्या होती है ? | What Is Belly Fat in Hindi

पेट की चर्बी हमारें पेट के अंगों के आस-पास मौजूद अतिरिक्त चर्बी होती हैं। इसे आंत का वसा भी कहा जाता हैं। इसे चर्बी का सबसे हानिकारक रूप माना जाता हैं।

यह वसा या चर्बी हमारें शरीर के पूरे मध्य भाग को प्रभावित करती हैं। बेली फैट एक विशेष प्रकार का फैट (वसा या चर्बी) है जो उदर गुहा (Abdominal Cavity) के भीतर जमा होता हैं।

यह यकृत, पेट और आंतों सहित अन्य महत्वपूर्ण अंगों के आस-पास जमा होता हैं। यह वसा धमनियों में भी स्थान ग्रहण कर सकता हैं।

आंत की चर्बी या पेट की चर्बी को सक्रिय वसा (Active Fat) के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि यह सक्रिय रूप से गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं के जोखिम को बढ़ा सकता हैं।

यह भी पढ़ें – सप्लीमेंट क्या होते हैं, फायदेमंद या नुकसानदेह 

पेट की चर्बी के प्रकार | Types Of Belly Fat in Hindi 

Belly Fat यह एब्डोमिनल मसल्स के आस-पास मौजूद फैट/चर्बी को संदर्भित करता हैं। पेट की चर्बी दो प्रकार की होती हैं :

(1) आंत का वसा (Visceral Fat) – यह हमारें पेट के भीतर गहराई में स्थित होता है और सबसे खतरनाक फैट के रूप में जाना जाता हैं।

(2) चमड़े के नीचे का वसा (Subcutaneous Fat) – यह हमारें त्वचा की सतह और पेट की दीवार के बीच एक परत के रूप में जमा होता हैं। इसे उपचर्म वसा भी कहते है क्योंकि यह त्वचा (Skin) के नीचे बैठता हैं।

इसके अलावा भी एक वसा और होता है – ट्राइग्लिसराइड्स फैट, यह हमारें रक्त्तप्रवाह (Bloodstream) में फैलता हैं।

यह भी पढ़ें – मसल लॉस क्यो होता हैं, जानिए कारण

महिलाओं का पेट कम करने के आसान उपाय | Belly Fat Loss Tips Female in Hindi

पेट की चर्बी या बेली फैट यह कोई बीमारी या गंभीर समस्या नहीं है, यह सामान्य हैं। यदि चर्बी आवश्यकता से ज्यादा हो जाए, तब यह किसी गंभीर समस्या को पैदा कर सकती हैं।

लेकिन चिंता की कोई बात नहीं हैं। यदि आप पेट की चर्बी से थोड़ा भी परेशान है तो यहाँ पर कुछ उपाय (तरीके) बताए गए है, जो आपकी इस परेशानी को दूर करने के लिए मददगार साबित होने वाले हैं।

यहां पर हम विज्ञान आधारित (Science Based) बेली फैट कम करने या महिलाओं का पेट कम करने के उपाय के बारें में जानेंगे।

(1) खाना खाने से पहले पानी जरूर पीएं –

अधिकांश फिटनेस एक्सपर्ट्स हमेशा यही सलाह देते है कि, खाना खाने से पहले 1 गिलास पानी जरूर पीना चाहिए। ऐसा करने से भूख कम हो जाती हैं।

जिसके फलस्वरूप हम सीमित मात्रा में खाना खाते है और हमारी बॉडी के अंदर पर्याप्त कैलोरी ही जा पाती हैं।

पर्याप्त कैलोरी लेने से हमारी बॉडी इसका पुर्णतः उपयोग ईंधन के रूप में कर लेती है और किसी भी प्रकार की कैलोरी बॉडी में अतिरिक्त नहीं बच पाती हैं।

अतिरिक्त कैलोरी बॉडी में नहीं बचने के कारण बॉडी में किसी भी प्रकार का फैट या वसा नहीं जम पाता हैं।

(2) Intermittent Fasting को फॉलो करें –

इंटरमिटेंट फास्टिंग तकनीक से पेट की चर्बी को आसानी से कम किया जा सकता हैं। इस तकनीक में एक विशेष प्रकार का समय निर्धारित किया जाता हैं।

जिसमें खाना खाने (Eating) और भूखा रहने (Fasting) के बीच समयान्तराल को विशेष रूप से देखा जाता हैं।

Intermittent Fasting, महिलाओं का पेट कम करने के उपाय में बहुत ही फायदेमंद तकनीक होती हैं।

यह भी पढ़ेंइंटरमिटेंट फास्टिंग क्या है, कैसे करते है और फायदे

(3) अधिक से अधिक प्रोटीन का इस्तेमाल करें –

2019 की एक रीसर्च कहती है, हम जितना ज्यादा प्रोटीन अपनी डाइट में शामिल करते है, हमारी बॉडी में चर्बी की मात्रा कम होती जाती हैं।

प्रोटीन की अधिक मात्रा किसी भी प्रकार के फैट के रूप में जमा नहीं होती हैं। वहीं अधिक मात्रा में कार्बोहाइड्रेट और फैट की मात्रा हमारी बॉडी में चर्बी या फैट के रूप में जमने (Store) लगती हैं।

अधिक मात्रा में प्रोटीन लेने से मसल मास बढ़ता है और Metabolism भी बढ़ता हैं। इसलिए हर भोजन में प्रोटीन से भरपूर फूड्स का इस्तेमाल जरूर करें। जैसे-

  • चिकन
  • अंडे
  • लीन मीट
  • डेयरी प्रोडक्ट्स
  • व्हे प्रोटीन
  • फिश

इसप्रकार हाई प्रोटीन वाले फूड्स पेट की चर्बी घटाने के लिए फायदेमंद और आदर्श होते हैं।

(4) रात को हल्का खाना खाएं –

डॉक्टर्स हमेशा से ही आपको सलाह देते आए है, कि यदि आपको फिट रहना है तो रात को हल्का (Light Meal) और हेल्दी भोजन करना चाहिए।

इसके पीछे साइंटिफिक कारण है, रात में यदि हम अधिक और भारी खाना (Heavy Meal) खाते है तो इसे पचने में अधिक समय लगता हैं।

इसलिए क्योंकि, रात में हमारी बॉडी किसी प्रकार की शारीरिक गतिविधियों में भाग नहीं लेती हैं। हमारी बॉडी पूरी तरह से आराम की स्थिति में होती हैं।

ऐसे में यदि हम भारी खाना खाते है, तो यह हमारें Belly Fat का कारण बन सकता हैं। इसलिए बेली फैट को घटाने के लिए रात को हल्का भोजन (कम वसा युक्त) करना चाहिए। जैसे –

  • दलिया
  • दाल-चावल
  • खिचड़ी

(5) खूब पानी पीएं –

अधिक से आधिक पानी पीने से बॉडी हमेशा एक्टिव रहती हैं। इसके साथ ही पाचन क्रिया मजबूत और बेहतर होती हैं।

अमेरिकन स्टडीज ने यह भी साबित कर दिया है, कि जो लोग हर दिन कम से कम 3 लीटर पानी पीते है वह लोग हमेशा फिट रहते हैं।

अधिक पानी पीने से चपपचायी क्रियाएं तेज हो जाती है, जिससे बॉडी में फैट जमने के चान्सेस बहुत कम हो जाते हैं। इसप्रकार ज्यादा से ज्यादा पानी पीने से पेट की चर्बी को आसानी से कम किया जा सकता हैं।

यह भी पढ़ें – वर्कआउट के बाद कितना पानी पीना चाहिए ?

(6) भोजन में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा कम करें –

भोजन में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा कम करने से हमारी बॉडी में फैट स्टोर होने के चांसेस बहुत कम हो जाते हैं।

इसलिए क्योंकि, जब हमारी बॉडी कार्बोहाइड्रेट का उपयोग ईंधन के रूप में पूरी तरह नहीं कर पाती है, तब यह कार्बोहाइड्रेट फैट के रूप में स्टोर होने लगता हैं।

कार्बोहाइड्रेट का फैट के रूप में स्टोर होना सबसे पहले पेट के हिस्सों में शुरू होता है, जो पेट की चर्बी को बढ़ाता हैं।

इसलिए भोजन में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा को कम करना चाहिए, उसकी जगह खाने में प्रोटीन की मात्रा को बढ़ाना चाहिए।

(7) अधिक फाइबर्स वाले फूड्स को डाइट में शामिल करें –

ज्यादा से ज्यादा फाइबर्स वाले फूड्स बॉडी में पाचन क्रिया और अवशोषण क्रिया को मजबूत करते हैं। जिससे सभी भोज्य पदार्थों का पाचन अच्छे से हो जाता हैं।

जिसके कारण बॉडी में अतिरिक्त चर्बी नहीं जम पाती है, क्योंकि सभी पदार्थों का पाचन अच्छी तरह से हो जाता हैं। इसप्रकार ज्यादा फाइबर्स वाले फूड्स पेट की चर्बी को कम करने में मदद करते हैं। जैसे-

  • साबुत अनाज
  • बीन्स
  • दालें हरी
  • सब्जियां
  • फ्रूट्स
  • ड्राई फ्रूट्स

(8) डाइट में अंडे का सेवन जरूर करें –

जैसा कि आप जानते ही है, अंडे प्रोटीन के सबसे अच्छे और सस्ते स्त्रोत होते हैं। अंडे में Lean Protein पाया जाता है, जो बॉडी में फैट जमने का विरोध करता हैं।

अंडे के रूप में Lean Protein को डाइट में शामिल करने से मसल मास बढ़ता है और फैट या चर्बी कम होती हैं।

यदि आप जल्द ही पेट की चर्बी से छुटकारा पाना चाहते है और पेट कम करना चाहते है, तो आप अपने भोजन में अंडे का सेवन जरूर करें। नियमित 2 से 3 अंडे खाना आपको बेहतर परिणाम दे सकते हैं।

(9) कार्डिओ और वेट ट्रेनिंग दोनो प्रकार की एक्सरसाइज करें –

बहुत सारे लोग पेट कम करने के लिए टिप्स जानने की कोशिश करते रहते हैं। लेकिन उन्हें पता ही नहीं चल पाता है कि, आखिर इसे कम करने का सबसे अच्छा तरीका क्या हैं।

आपको बता दें, महिलाओं के लिए बेली फैट को घटाने का सबसे अच्छा उपाय वर्कआउट करना हैं। वर्कआउट में दोनो प्रकार की एक्सरसाइज (कार्डिओ & वेट ट्रेनिंग) को शामिल करना भी जरूरी होता हैं।

कार्डिओ करने से बॉडी में मौजूद अतिरिक्त कैलोरी को आसानी से बर्न किया जा सकता हैं। वही वेट ट्रेनिंग की मदद से कैलोरी भी बर्न की जा सकती है और मसल मास को भी आसानी से बढ़ाया जा सकता हैं।

यह भी पढ़ें – बॉडीवेट ट्रेनिंग के फायदे ही फायदे 

(10) खाने में कोकोनट ऑइल का इस्तेमाल करें –

नारियल का तेल, हेल्दी फैट्स की श्रेणी में आता हैं। इसे हम आसानी से खा सकते हैं।

अध्ययनों से पता चला है कि, Coconut Oil में मीडियम-चैन फैट्स मौजूद होते है, जो हमारी बॉडी में Metabolism को बढ़ाने में मदद करते हैं।

जवाब में हमारी बॉडी किसी भी प्रकार की चर्बी को जमा नहीं होने देती हैं। यदि हम किसी अन्य प्रकार का रिफाइंड ऑइल खाने में इस्तेमाल करते करते है, उसकी जगह इसे उपयोग में लाने से हम पेट की चर्बी या Belly Fat को आसानी से कम कर सकते हैं।

(11) डेली कैलोरी की गणना जरूर करें –

प्रतिदिन कितनी कैलोरी लेना है, इसका भी हमें ध्यान रखना चाहिए। हमें कैलोरिक मेंटेनेन्स की स्थिति में रहना चाहिए।

किसी भी प्रकार से आवश्यकता से ज्यादा कैलोरी नहीं लेनी चाहिए। इसके लिए हम कैलोरी कैलक्यूलेटर का उपयोग कर सकते हैं।

(12) सुबह-सुबह पानी में नीबू और शहद मिलाकर पीएं –

सुबह सवेरे उठते से ही 1 गिलास गुनगुने पानी में नीबू और एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से बॉडी से विषाक्त पदार्थ मूत्र के साथ बाहर निकल जाते हैं।

ऐसा करने से पाचन क्रिया व चपपचायी क्रियाएं मजबूत होती है और हमारी बॉडी में फैट को जमने के लिए जगह नहीं मिलती हैं।

(13) Green Tea का इस्तेमाल करें –

ग्रीन टी एक साधारण और स्वस्थ पेय हैं। इसमें एन्टी-ऑक्सीडेंट और EGCG मौजूद होते है, जो Metabolism को बूस्ट करते हैं।

ग्रीन टी में बहुत कम (न के बराबर) कैलोरी होती है और साथ ही साथ इसमें किसी भी प्रकार का फैट भी नही होता हैं।

इसलिए यदि हम इसे अपनी रूटीन में जोड़ते है, तो यह हमारें पेट के फैट को कम करने में मददगार साबित हो सकती हैं।

(15) अधिक से अधिक वेजिटेबल सलाद खाएं –

सलाद की अधिक मात्रा खाने के बावजूद इसमें कैलोरी कम होती है और पोषक तत्वों की अधिकता होती हैं। इसमें किसी भी प्राकर की चर्बी नहीं होती हैं।

सलाद हरी सब्जियों से मिलकर बनाता है और इसमें और खाद्य पदार्थ भी जोड़े जा सकते हैं। वेजिटेबल सलाद खाने से बॉडी को सीमित मात्रा में कैलोरी प्राप्त होती हैं।

इसका सबसे बड़ा फायदा यही है, कि इससे बॉडी में फैट नहीं जमता हैं। सलाद में आप सभी सब्जियों को शामिल कर सकते हैं। जैसे-

  • ब्रोकली
  • पत्तागोबी
  • ककड़ी
  • मशरूम
  • गाजर 
  • मूली
  • फुलगोबी
  • बीटरूट
  • टमाटर

इन चीजों से दूर रहें या इनका सेवन न करें :

(16) अधिक मात्रा में एल्कोहल का सेवन न करें –

एल्कोहल की मात्रा हमारी बॉडी में चर्बी जमने को आमंत्रित करती हैं। शोध बताते है, इसका थोड़ी मात्रा में सेवन करना लाभप्रद हो सकता हैं।

लेकिन यदि अल्कोहल या शराब का अधिक सेवन पेट की चर्बी और दूसरी समस्याओं को बढ़ा सकता हैं।

यदि हम इससे दूर रहते है, तो बेशक बेली फैट को कम कर सकते हैं।

(17) अधिक से अधिक जूस का सेवन न करें –

हालांकि फलों का जूस विटामिन और मिनेरल्स से भरपूर होता है, लेकिन अधिक मात्रा में सेवन करने से आपकी चर्बी को बढ़ा सकता हैं। इसलिए क्योंकि, इसमें भी शुगर मौजूद होती हैं।

उदाहरण के लिए – सेवफल के 240 ML में लगभग 24 ग्राम शुगर होती है, जिसका आधा (12 ग्राम) फ्रुक्टोज होता हैं।

यह शुगर पेट की चर्बी को बढ़ावा देती हैं। इसलिए हमें फैट लॉस के दौरान ज्यादा से ज्यादा जूस का सेवन नहीं करना चाहिए।

(18) खाने में मिठाई और मीठे-पेय का इस्तेमाल न करें –

अध्ययनों से पता चलता है कि, शर्करा वाले पेय और मिठाई यकृत में वसा को बढ़ाते हैं। इसलिए आपको इन सभी से दूर रहना चाहिए। जैसे-

  • सोडा
  • मीठी चाय
  • Beverages (मीठे पेय)
  • कोल्ड ड्रिंक्स

(19) जंक फूड या बाहरी फैटी फूड्स से दूर रहें –

जंक फूड या बाहर का खाना प्रोसेस्ड होता हैं। इसमें आवश्यकता से अधिक कैलोरी की मात्रा मौजूद होती हैं। जिसे हमारी बॉडी अच्छे से Absorb नहीं कर पाती हैं।

और यही अतिरिक्त कैलोरी हमारें पेट की चर्बी या Belly Fat को बढ़ाती हैं। इसलिए इन सभी चीजों का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए।

(20) Smoking बिल्कुल भी न करें –

धूम्रपान करने से बॉडी में ऑक्सीजन लेवल कम हो जाता हैं। सिगरेट के धुएं में मौजूद कार्बन मोनो ऑक्साइड गैस ब्लड में ऑक्सीजन को कम कर देती हैं।

जिसके कारण बॉडी में Metabolism और तांत्रिका तंत्र प्रभावित होता हैं। जिसके फलस्वरूप यह मोटापा या पेट के वसा को बढ़ाती हैं।

इसलिए हमें Smoking बिल्कुल भी नहीं करनी चाहिए।

महिलाओं का पेट कम करने के लिए एक्सरसाइज | Best Exercises To Reduce Belly Fat in Hindi 

पेट कम करने के लिए हमें डाइट के साथ-साथ नियमित रूप से एक्सरसाइज करना भी जरुरी होता हैं। पेट कम करने की बेस्ट एक्सरसाइज जैसे –

(1) दौड़ (Running)
(2) रस्सी कूदना (Skipping)
(3) क्रंचेस (Crunches)
(4) डेडलिफ्ट्स (Deadlifts)
(5) स्क्वाट्स (Squats)
(6) बर्पीज (Burpees)
(7) माउंटेन क्लाईम्बर्स (Mountain Climbers)
(8) फंक्शनल ट्रेनिंग (Functional Training)
(9) साइकिलिंग (Cycling)
(10) प्लैंक (Plank)

यह सामान्य एक्सरसाइज है, जिसकी नियमित रूप से ट्रेनिंग करके हम पेट को आसानी से कम कर सकते हैं।

पेट की चर्बी कम करने की दवाई कौन सी हैं ? | Medicine For Reduce Belly Fat in Hindi 

आपको बता दें, अभी तक पेट की चर्बी को कम करने या पेट कम करने के लिए कोई दवा या मेडिसिन नहीं बनी है, क्योंकि यह कोई बीमारी नहीं हैं।

यह आपके गलत खान-पान, डेली रूटीन और लाइफस्टाइल का परिणाम हैं।

मेडिकल साइन्स इसे बीमारी बिल्कुल नहीं मानता हैं। और यह बात बिल्कुल सत्य हैं। यह बीमारी नहीं है परंतु बीमारियों का कारण जरूर हैं।

पेट की चर्बी या मोटापा हमारें बॉडी में गंभीर समस्याओं को पैदा कर सकती हैं।

फिर भी मार्केट में आपको पेट के फैट को कम करने की दवाइयां मिल जाएगी परन्तु यह किसी भी प्रकार फायदेमंद नहीं होती हैं। और ना ही कोई डॉक्टर इसे इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं।

यदि आप बेली फैट कम करना या बर्न करना चाहते है तो ऊपर बताए गए तरीकों को फॉलो करें। यह आपके लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद साबित होगा।

महिलाओं के पेट की चर्बी के मुख्य कारण | Belly Fat Reasons in Hindi 

पेट की चर्बी बढ़ने के मुख्य कारण आपकी गलत दिनचर्या, खान-पान और जीवन-शैली हैं। इसके अलावा भी अन्य कुछ कारण है जिसे हम कुछ पॉइंट्स की मदद से जानेंगे।

(1) आनुवंशिकता (Genetics) –

बेली फैट को बढ़ाने में जीन्स (Genes) भी प्रमुख भूमिका निभाते हैं।

अधिकांश डॉक्टर्स भी इस बात को मानते है कि, अनुवांशिक गुणों के कारण भी पेट की चर्बी बढ़ती हैं। ऐसा दिखाई पड़ता है कि, पेट में वसा संग्रहित करने की प्रवृत्ति आंशिक रूप से Genetics से प्रभावित होती हैं।

2014 में ही शोधकर्ताओं ने कुछ ऐसे जीन्स की पहचान की है, जो पेट की चर्बी के रूप में अतिरिक्त कैलोरी का भंडारण करते हैं।

(2) निष्क्रियता (Inactivity) –

एक गतिहीन जीवनशैली शरीर में फैट जमने का मुख्य कारण हैं। पिछले कुछ वर्षों में लोग आमतौर पर कम सक्रिय हो गए हैं। इससे मोटापा बढ़ने की संभावना बढ़ गई है, जिसमें पेट की चर्बी का बढ़ना भी शामिल हैं।

यदि हम भी किसी तरह की एक्सरसाइज नहीं करते है, तो यह मोटापे या पेट की चर्बी को बढ़ाता हैं।

(3) तनाव और कोर्टिसोल हॉर्मोन (Stress & Cortisol) –

कोर्टिसोल यह जीवित रहने के लिए बहुत जरूरी हॉर्मोन होता हैं। यह अधिवृक्क ग्रंथियों (Adrenal Glands) द्वारा निर्मीत होता है और इसे ‘Stress Hormone’ के रूप में भी जाना जाता हैं।

इसलिए क्योंकि, यह हमारी बॉडी में तनाव प्रतिक्रिया को बढ़ाता हैं। इसके अधिक मात्रा में उत्पन्न होने पर वजन बढ़ सकता है, विशेष रूप से पेट के अंगों में।

कई लोगों में अधिक खाने से तनाव की स्थिति बन जाती हैं। अधिक कैलोरी खाने से अतिरिक्त कैलोरी फैट के रूप में पूरी बॉडी में संग्रहित होने लगती हैं।

लेकिन कोर्टिसोल इस फैट को पेट के हिस्सों में संग्रहित होने को बढ़ावा देता हैं। इसीलिए कोर्टिसोल हॉर्मोन, जो तनाव के कारण स्त्रावित होता है, पेट की चर्बी का कारण बनता हैं।

(4) प्रोटीन की कमी (Lack Of Protein Intake) –

डाइट में प्रोटीन की कमी भी पेट की चर्बी या Belly Fat का कारण बनती हैं। प्रोटीन की कमी से मसल मास कम होता है और हमारी बॉडी एक Ideal Weight को प्राप्त करने के लिए फैट को संग्रहित करती हैं।

यदि हम प्रोटीन की मात्रा अधिक लेते है, तो आपके बॉडी में मसल मास बढ़ता हैं। और इसके साथ ही यदि हम एक्सरसाइज या वर्कआउट करते है, तो इससे मसल्स बिल्ड होते है और फैट घटता हैं।

आप तो जानते ही है, इंडियन डाइट में प्रोटीन की मात्रा कितनी कम होती हैं। आहार में यहां पर कार्ब्स और फैट्स बहुत ज्यादा मात्रा में शामिल किया जाता हैं।

कार्ब्स की अधिक मात्रा संसाधित नही होने पर फैट का रूप धारण करने लगती है और इसका केंद्र बॉडी का मध्य भाग यानि की पेट होता हैं। जहां पर यह फैट के रूप में सबसे पहले और सबसे ज्यादा स्टोर होता हैं।

यह भी पढ़ें – Whey Protein लेने के फायदे

(5) बीमारियां (Illness/Sickness) –

बीमारियों के कारण भी मोटापा, पेट का वसा आदि समस्याएं उत्पन्न होती हैं। जब हम किसी बीमारी से पीड़ित होते है, तब हमारी कैलोरी खपत बहुत कम हो जाती हैं।

ऐसे में कितना भी कम खाया जाएं, कैलोरी बर्न करना थोड़ा मुश्किल हो जाता हैं।

लंबे समय तक यदि हम बेड रेस्ट करते है और दवाइयों का सेवन करते है, तो गतिहीनता के कारण और कैलोरी खपत कम होने के कारण हम पेट की चर्बी का शिकार बन जाते हैं।

पेट की चर्बी के और भी कारण हो सकते हैं। जैसे – एल्कोहल का सेवन, धूम्रपान, बाहर का खाना, घन्टो बैठे रहना, अधिक भोजन करना, ट्रांस फैट डाइट लेना, कम पानी पीना, कोई काम न करना, एक्सरसाइज न करना आदि।

इन सभी कारणों से आप भलीभांति अवगत होंगे। इसीलिए यहां पर कुछ ऐसे मुख्य कारणों को बताया है, जो विज्ञान आधारित हैं। शायद यह कारण आपको समझ आ गए होंगे।

Final Words : महिलाओं के लिए पेट की चर्बी या Belly Fat कोई गंभीर समस्या या बीमारी नहीं हैं। यह सामान्य है और किसी भी व्यक्ति विशेष को इसका सामना करना पड़ सकता हैं।

पेट कम करने के लिए आपको अपनी डेली रूटीन, खानपान और लाइफस्टाइल आदि को सुधारना होगा और बताएं गए टिप्स को फोलो करना होगा।

आपसे निवेदन है कि, किसी भी प्रकार की दवाई आदि का सेवन न करें। इसके दुष्प्रभाव हो सकते हैं।

पेट की चर्बी को एक्सरसाइज या वर्कआउट और सही डाइट से आसानी से कम किया जा सकता हैं।

उम्मीद है, महिलाओं का पेट कम करने के उपाय या महिलाओं का मोटापा कम करने के उपाय (Belly Fat Loss Tips Female in Hindi) और इससे जुड़ी सभी जानकारी आपको अच्छी तरह मिल गयी होंगी। आप इस जानकारी को अपने दोस्तों के साथ Share जरूर करें।

यदि आपके कोई भी सवाल/सुझाव है तो नीचे Comment करके जरूर बताएं और साथ में यह भी बतायें कि यह पोस्ट आपको कैसी लगी। धन्यवाद !!!

Share with your friends...

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button