पीनट बटर में प्रोटीन की मात्रा और फैट, कार्बोहायड्रेट कितना होता है ?

अक्सर देखा जाता है, फैट से युक्त खाद्य पदार्थों को डाइट में शामिल करने के लिए बहुत ज्यादा सोच-विचार करना पड़ता हैं। फिर चाहें मसल बिल्डिंग करना हो, फैट कम करना हो या बेहतर फिटनेस प्राप्त करना हो, हर प्रकार की लाइफस्टाइल में फैट वाली चीजों को नकारा जाता हैं।

Peanut Butter in Hindi

वहीं पीनट बटर एक ऐसा फूड है, जिसे किसी भी प्रकार के फिटनेस गोल को प्राप्त करने और अच्छी सेहत के लिए डाइट में शामिल करना बहुत ही फायदेमंद माना जाता हैं। हालांकि, पीनट बटर में भी फैट की मात्रा अधिक होती है, फिर भी फिटनेस ट्रेनर और डायटीशियन इसे डेली डाइट में जोड़ने की सलाह देते हैं।

जरूरी नहीं है, कि पीनट बटर का इस्तेमाल एक्सरसाइज करने वाले या जिम जाने वाले ही कर सकते है, बल्कि इसे सभी लोग महिला, पुरुष, बच्चे, बूढ़े आदि अपनी डाइट में ले सकते हैं।

पीनट बटर का सेवन करना हर इंसान के लिए फायदेमंद होता है, लेकिन कुछ मिथक और गलत जानकारी आपको पीनट बटर का सेवन करने से हमेशा ही रोक लेती हैं। आपको बता दें, इसमें केवल फैट ही नहीं होता, बल्कि यह प्रोटीन का भी बहुत अच्छा स्त्रोत होता हैं।

तो चलिए इस आर्टिकल की मदद से पीनट बटर के बारें में विस्तार से जानते है कि पीनट बटर क्या होता है, कैसे बनता है, प्रोटीन की मात्रा, फायदे और नुकसान क्या है, कब और कैसे इस्तेमाल करना चाहिए।

पीनट बटर क्या है ? | Peanut Butter Meaning in Hindi

पीनट बटर एक प्रकार का फूड पेस्ट होता है, जिसे भूने हुए मूंगफली से बनाया जाता हैं। इसमें प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, हैल्दी फैट, फाइबर्स और विटामिन & मिनेरल्स प्रचूर मात्रा में उपस्थित होते हैं। यह पूर्णतः शाकाहारी उत्पाद होता है, जिसे फूड प्रोडक्ट्स के रूप में इस्तेमाल किया जाता हैं।

Peanut Butter का हिंदी में मतलब ‘मूंगफली का मक्खन’ होता हैं। इसे बेहतरीन स्वाद के लिए भी जाना जाता हैं। आमतौर पर स्वाद और क्वालिटी के लिए इसमें अतिरिक्त सामग्री को मिलाया जाता हैं जैसे – नमक, मिठास और एमलसिफायर्स आदि।

पीनट बटर साधारणतः Unprocessed Food (असंसाधित खाद्य) होता है, जो केवल और केवल मूंगफली का पेस्ट होता हैं। पीनट बटर बनाने वाले ब्राण्ड्स इसमें अतरिक्त रूप से शुगर, वेजिटेबल आयल और ट्रांस फैट बहुत ही कम मात्रा में मिलाते है, जिससे इसकी गुणवत्ता और वैलिडिटी बढ़ जाती हैं।

इसके बावजूद भी यह पूरी तरह नेचुरल होता हैं। पीनट बटर को अधिक समय तक अच्छा रखने और स्वाद आदि को बेहतर बनाने के लिए इसमें अतिरिक्त सामग्री को मिलाया जाता हैं।

पीनट बटर कैसे बनता है ? Peanut Butter Making Process in Hindi

पीनट बटर बनाने की प्रोसेस आसान होती हैं। आप इसे घर पर भी बड़ी आसानी से बना सकते हैं। यहां पर सबसे पहले हम फैक्ट्री या फूड प्लांट में पीनट बटर कैसे बनता है, इसके बारें में जानते हैं।

पीनट बटर बनाने की प्रोसेस –

इसे बनाने की प्रक्रिया में सबसे पहले मूंगफली को फूड प्लांट तक पंहुचाया जाता हैं। इसके बाद मूंगफली को मशीन में फोड़ा जाता है, जिससे मूंगफली के दाने और ऊपर के छिलके दोनों अलग-अलग हो जाते हैं।

Peanut Butter in Hindi

अब मूंगफली के दाने (Peanut) को एक निश्चित तापमान पर गर्म किया जाता हैं। गर्म करने की इस प्रोसेस में पीनट को भुना (Roast) जाता हैं।

इसके बाद इसे कुछ समय तक ठंडा होने के लिए रख दिया जाता हैं। इस प्रोसेस के बाद पीनट के छिलकों (जली हुई स्किन) को अलग कर लिया जाता है और अब केवल भूने/सीके हुए पीनट ही शेष बच जाते हैं।

अब इन पीनट को ग्राइंडर मशीन की मदद से महीन पीस लिया जाता है और इसका पेस्ट बना दिया जाता हैं। इस प्रोसेस के दौरान इसमें वेजिटेबल आयल, शुगर, नमक और ट्रांस फैट को भी अतिरिक्त रूप से मिलाया जाता हैं।

इस प्रोसेस के पूरा होने के बाद पीनट बटर गाढ़े पेस्ट के रूप में बनकर तैयार हो जाता हैं। अब इसकी क्वालिटी आदि को चेक करके इसे विभिन्न प्रकार के डिब्बों में भर दिया जाता है और इसप्रकार पीनट बटर को मार्केट में पहुंचाया जाता हैं।

पीनट बटर के पोषण तथ्य | Peanut Butter Nutritional Facts in Hindi

इसमें प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और फैट बहुत ही अच्छी मात्रा में पाया जाता है, जो हमारी बॉडी के लिए बहुत फायदेमंद होता हैं। पीनट बटर को सुपरफूड भी कहते है, इसलिए क्योंकि इसमें सभी पोषक तत्व मौजूद होते हैं।

Peanut Butter (Amount Per 100 Grams Approx.)

  • कैलोरी: 585
  • टोटल फैट: 50 ग्राम
  • प्रोटीन: 25 ग्राम
  • टोटल कार्बोहाइड्रेट: 20 ग्राम
  • डाइटरी फाइबर: 7 ग्राम
  • शुगर: 8 ग्राम
  • सोडियम: 19 मिलीग्राम
  • पोटैशियम: 651 मिलीग्राम
  • कोलेस्ट्रॉल: 0 मिलीग्राम
  • आयरन, मैग्नीशियम, कैल्शियम, विटामिन ए, बी-6, सी & डी: पर्याप्त मात्रा में

पीनट बटर खाने के फायदे | Peanut Butter Benefits in Hindi

पीनट बटर खाना हर उम्र के इंसान के लिए लाभदायक होता हैं। हालांकि इसे एक्सरसाइज या वर्कआउट करने वाले लोगों और एथलीट लोगों द्वारा अधिक इस्तेमाल किया जाता हैं।

यदि आप भी इसे अपनी डाइट में शामिल करते है तो बेशक ही आप इसके सेवन से स्वास्थ्य संबंधी लाभ उठा सकते है और अपनी फिटनेस लाइफस्टाइल को बेहतरीन बना सकते हैं।

पीनट बटर खाने के लाभ जैसे –

(1) मसल्स बनाने में मदद करता हैं।
(2) फैट लॉस करने में मदद करता हैं।
(3) बॉडीबिल्डिंग में सहायक होता हैं।
(4) ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करता हैं।
(5) हार्ट से रिलेटेड समस्याओं को दूर करता हैं।
(6) प्रोटीन की कमी को पूरा करने में मदद करता हैं।
(7) त्वचा को बेहतर बनाये रखने में सहायक होता हैं।
(8) पाचन क्रिया को मजबूत बनाता हैं।
(9) पर्याप्त मात्रा में ऊर्जा प्रदान करता हैं।

इसप्रकार यदि आप पीनट बटर को अपनी डाइट में जोड़ते है, तो इसके बेहतरीन फायदे आपको मिल सकते हैं। इसके साथ ही यह आपकी फिटनेस को नेक्स्ट लेवल बनाने भी मदद करता हैं।

पीनट बटर खाने के नुकसान | Peanut Butter Side Effects in Hindi

हालांकि पीनट बटर के इस्तेमाल से फायदे ही देखने को मिलते हैं। इसके सेवन से किसी भी प्रकार के नुकसान नही होते है, बशर्ते इसका सेवन सीमित मात्रा में किया जाना चाहिए।

अधिक मात्रा में पीनट बटर का सेवन करना थोड़ा नुकसानदेह हो सकता हैं। इसके अलावा यदि आप एलर्जिक प्रवृत्ति के है, तो इसके साइड इफेक्ट्स आपको देखने को मिल सकते हैं।

अधिक मात्रा में सेवन या एलर्जिक लोगों को पीनट बटर से होने वाले साइड इफेक्ट्स जैसे –

  • एलर्जी
  • उल्टी-दस्त
  • पेटदर्द
  • भूख न लगना
  • अस्थमा

पीनट बटर कब खाना चाहिए ? | Best Time To Eat Peanut Butter in Hindi

वैसे तो आप पीनट बटर को आप अपनी डाइट में किसी भी समय पर जोड़ सकते हैं। आप इसे मॉर्निंग ब्रेकफास्ट, लंच, शाम के समय स्नैक्स, डिनर या सोने के पहले किसी भी समय पर ले सकते हैं।

लेकिन अगर बात की जाए पीनट बटर कब खाना चाहिए बेस्ट टाइम क्या है तो, आप इसे प्री-वर्कआउट मील में, शाम के स्नैक्स में और मॉर्निंग ब्रेकफास्ट में ले सकते हैं। इसे लेने के यह तीनों टाइम सबसे अच्छे होते हैं। इन तीनों समय पर आपके बॉडी को कैलोरी की थोड़ी ज्यादा आवश्यकता होती है, जिसे पूरा करने में यह मदद करता हैं।

Share करें !

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *